सत्ता की साझेदारी क्या है | class 10th pdf file

सत्ता की साझेदारी क्या है- इस अध्याय में भाषा और क्षेत्र के अतिरिक्त, लोगों के शारीरिक स्वरूप, लिंग, जाति, जनजाति आदि के रूप में अलग-अलग अध्ययन करेंगे।

हम यह भी वर्ग, धर्म, समझने का प्रयास करेंगे कि लोकतंत्र सामाजिक मतभेदों, विभाजनों और असमानताओं की कैसे प्रतिक्रिया करता है और किस प्रकार लोकतंत्र सभी सामाजिक विभिन्नताओं अंतरों और असमानताओं के बीच सामंजस्य बैठाकर उनका समाधान करने की कोशिश करता है।

साथ ही इस अध्याय में सामाजिक विभिन्नता और लोकतांत्रिक राजनीति किस तरह एक-दूसरे को प्रभावित करते हैं, इसका भी अध्ययन करेंगे।

मैक्सिको ओलंपिक की कहानी

  • यह कहानी अमेरिका में चले नागरिक अधिकार आंदोलन (Citizen Rights Movement) की घटना संबंधित हैं। वर्ष 1968 में मैक्सिको में हुए 200 मीटर दौड़ के ओलंपिक मुकाबलों के पदक समारोह के समय अमेरिकी राष्ट्रगान (National Anthem) में सिर झुकाए तथा मुट्ठी ताने हुए दो एफ्रो-अमेरिकी धावक (Afro American Athletes) टॉमी स्मिथ और जॉन कार्लोस खड़े थे। टॉमी स्मिथ और जॉन कालोंस ने स्वर्ण पदक और कांस्य पदक जीता था।
  • दोनों खिलाड़ियों ने पुरस्कार लेते समय जूते न पहनकर केवल काले मोजे पहने थे, जो यह दर्शाने की कोशिश कर रहे थे कि अमेरिकी अश्वेत लोग गरीब हैं।
  • अपने इन प्रतीकों से उन्होंने अमेरिका में होने वाले रंगभेद (Racial Discrimination) के प्रति अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर लोगों का ध्यान अपनी ओर आकर्षित करने की कोशिश की। काले दस्तानें और बँधी हुई मुट्ठियाँ अश्वेत शक्ति (Black Power) का प्रतीक थीं।
  • मैक्सिको ओलंपिक में पुरस्कार समारोह के दौरान रजत पदक जीतने वाले ऑस्ट्रेलिया के धावक पीटर नॉर्मन ने अपनी जर्सी पर मानवाधिकार (Human Rights) का बिल्ला लगाकर दोनों अमेरिकी खिलाड़ियों के प्रति अपना समर्थन जताया था।
  • अंतर्राष्ट्रीय ओलंपिक संघ (International Olympic Association) ने कार्लोस और स्मिथ द्वारा राजनीतिक बयान देने की इस युक्ति को ओलंपिक भावना के विरुद्ध बताते हुए उन्हें दोषी बताया और उनके पदक वापस ले लिए गए।
  • टॉमी स्मिथ और जॉन कार्लोस के प्रति अपना समर्थन (Support) देने के कारण नॉर्मन को अगले ओलंपिक में ऑस्ट्रेलिया की टीम में जगह नहीं दी गई, परंतु नॉर्मन के फैसलों ने अमेरिका में बढ़ते ‘नागरिक अधिकार आंदोलन’ (Civil Rights Movement) के प्रति दुनिया का ध्यान आकर्षित करने में सफलता प्राप्त की।

समानताएँ, असमानताएँ और विभाजन

धावकों के दिए गए उदाहरणों में खिलाड़ी सामाजिक बँटवारे और सामाजिक भेदभाव का विरोध कर रहे थे। भेदभाव सिर्फ नस्ल या रंग के आधार पर ही नहीं होता इसके और भी स्वरूप होते हैं;

जैसे—बेल्जियम और श्रीलंका में यह विभाजन क्षेत्रीय और सामाजिक दोनों स्तरों पर मौजूद था। बेल्जियम में अलग-अलग क्षेत्रों में लोग अलग-अलग भाषाएँ बोलते हैं, वहीं श्रीलंका में यह बँटवारा भाषा और क्षेत्र दोनों आधारों पर दिखाई देता है।

सामाजिक भेदभाव की उत्पत्ति

प्रत्येक सामाजिक विभिन्नता सामाजिक विभाजन का रूप नहीं लेती। सामाजिक विभिन्नताएँ लोगों के मध्य बँटवारे का एक बड़ा कारण होता है, लेकिन यही सामाजिक विभिन्नताएँ कई बार अलग-अलग तरह के लोगों को जोड़ने का कार्य भी करती हैं।

विभिन्न सामाजिक समूहों के व्यक्ति अपने समूहों की सीमाओं से अलग भी समानताओं और असमानताओं का अनुभव करते हैं; जैसे-टॉमी स्मिथ और जॉन कार्लोस जो एक अश्वेत एफ्रो-अमेरिकी थे, जबकि नॉर्मन श्वेत थे, परंतु इनमें एक समानता थी कि यह सभी नस्ल आधारित भेदभाव के विरोधी थे।

सामाजिक अंतर के कारण सामाजिक विभाजन

  • सामाजिक अंतर, सामाजिक विभाजन और तनाव की संभावना उत्पन्न करते है। जहाँ ये सामाजिक विभिन्नताएँ एक साथ अनेक समूहों में विद्यमान होती हैं, वहाँ उन्हें नियंत्रित करना आसान होता है। सामाजिक विभाजन अधिकांश देशों में अलग-अलग रूप में उपस्थित होता है;
  • समरूप समाज एक ऐसा समाज होता है, जिसमें सामुदायिक, सांस्कृतिक या जातीय विभिन्नताएँ अधिक नहीं होती। जर्मनी और स्वीडन एक समय में उच्चतर समरूप समाज थे, लेकिन दूसरे अर्थात् अन्य देशों के लोगों के वहाँ प्रवास करने के कारण उनमें तीव्र गति से परिवर्तन हो रहा है।
  • प्रवासी अपने साथ अपनी संस्कृति लाते हैं और उनमें अपना एक अलग सामाजिक समुदाय बनाने की प्रवृत्ति होती है। इस प्रकार संसार के अधिकांश देश बहु-सांस्कृतिक हो गए हैं।

सामाजिक विभाजनों की राजनीति

  • लोकतंत्र में विभिन्न राजनीतिक पार्टियों के बीच प्रतिद्वंद्विता बनी रहती है। इस प्रतिद्वंद्विता के कारण सामाजिक विभाजन राजनीतिक विभाजन में बदल सकता है और ऐसी स्थिति में देश विखंडन की ओर जा सकता है।
  • संसार के अधिकांश देशों में सामाजिक विभाजन उपस्थित होता है और राजनीति को प्रभावित करता है। राजनीतिक दल इन विभाजनों के विषय में बात करते हैं, विभिन्न समुदायों से भिन्न-भिन्न वादे करते हैं और वंचित समुदायों की शिकायतों का निवारण करने के लिए नीतियां बनाते हैं। अधिकांश देशों में सामाजिक विभाजन मतदान को प्रभावित करता है।

उत्तरी आयरलैंड में राजनीतिक विभाजन

  • कई वर्षों से उत्तरी आयरलैंड राजनीतिक जातीय संघर्ष (Ethno-Political Conflict) और हिंसा का स्थल रहा है। इसका मुख्य कारण उत्तरी आयरलैंड में 53% आबादी प्रोटेस्टेंट है, जबकि 44% आबादी रोमन कैथोलिक है।
  • कैथोलिकों का प्रतिनिधित्व नेशनलिस्ट पार्टियाँ करती है। उनकी माँग यह है कि उत्तरी आयरलैंड को आयरलैंड गणराज्य के साथ मिलाया जाए जोकि मुख्यतः कैथोलिक देश है, जबकि प्रोटेस्टेट लोगों का प्रतिनिधित्व यूनियनिस्ट पार्टियाँ करती है, जो ग्रेट ब्रिटेन के साथ ही रहने के पक्ष में है, क्योंकि ब्रिटेन मुख्यतः प्रोटेस्टेंट देश है।
  • यूनियनिस्टों और नेशनलिस्टो के मध्य चलने वाले संघर्ष में ब्रिटेन के सुरक्षा बलों सहित हजारों लोग और सेना के जवान मारे गए। वर्ष 1998 में ब्रिटेन की सरकार और नेशनलिस्टों के बीच शांति समझौता हुआ, जिसमें दोनों पक्षों ने हिंसक आंदोलन बंद करने की बात स्वीकार की थी।

अधिक जानकारी।

भारत में राष्ट्रवाद | pdf, सविनय अवज्ञा आंदोलन, प्रथम विश्व, आदि

यूरोप में राष्ट्रवाद का उदय | 10 class pdf file

What is Tissues ऊतक क्या है | Types is Tissues ऊतकों के प्रकार 2022

Leave a Comment

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *